आप यहां हैं->होम->जीव विज्ञान->Class 11
Class 11
Class 11

धनायनों का गुणात्मक विश्लेषण
धनायनों का गुणात्मक विश्लेषण
तत्वों की जांच: लैसेन परीक्षण
लैसेन परीक्षण के माध्यम से कार्बनिक यौगिकों में नाइट्रोजन, सल्फर, क्लोरीन, ब्रोमीन और आयोडीन की उपस्थिति का पता लगाना है।
पीएच का निर्धारण
हमारा उद्देश्य दिए गए नमूने के पीएच निर्धारित करने के लिए है नीचे का उपयोग कर; (a)पीएच पेपर (b)सार्वभौमिक सूचक (यूनिवर्सल इंडिकेटर)
रासायनिक संतुलन
हमारा उद्देश्य फेरिक आयन और थायोसाइनेट आयन के बीच संतुलन के स्थानांतरण का इनमें से किसी एक की सांद्रता में वृद्धि करके अध्ययन करना है।
कार्बनिक यौगिक का क्वथनांक
हमारा उद्देश्य कार्बनिक यौगिक का क्वथनांक निर्धारित करना है।
क्रिस्टलीकरण द्वारा अशुद्ध नमूने का शोधन
हमारा उद्देश्य क्रिस्टलीकरण के माध्यम से निम्नलिखित पदार्थों के अशुद्ध नमूने से उनका क्रिस्टल तैयार करना है; 1.कॉपर सल्फेट 2. पोटाश फिटकिरी 3. बेंजोइक एसिड
आधारभूत प्रयोगशाला परीक्षण
1. बुनसन बर्नर 2.बोतल को धोना 3. एक ग्लास ट्यूब को मोड़ना 4. एक डिलेवरी नली से एक ग्लास जेट को तैयार करना 5.कार्क में छेद करना
गलनांक (मेल्टिंग प्वांइंट)
कार्बनिक यौगिक (कंपाउंड) का गलनांक (मेल्टिंग प्वांइंट) निर्धारित करना है।
आयन का गुणात्मक विश्लेषण।
आयन का गुणात्मक विश्लेषण।
मात्रात्मक अनुमान
सोडियम कार्बोनेट के मानक घोल को तैयार करें । हाइड्रोक्लोरिक अम्ल दिए गए घोल की सांद्रता का निर्धारण मानक सोडियम कार्बोनेट घोल के विरूद्ध टाइट्रेटिंग के द्वारा किया जाता हैl