कागज क्रोमैटोग्राफी

उद्देश्य

हमारा उद्देश्य है:

1. आरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी द्वारा लाल और नीली स्याही के मिश्रण में मौजूद रंगीन घटकों को अलग करना और उनके Rf मानों का पता लगाना।

2. आरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी द्वारा पालक की पत्तियों के रस में मौजूद रंगीन घटकों को अलग करना और उनके Rf मानों का पता लगाना।

सिद्धांत

 

क्रोमैटोग्राफी

मिश्रण को उनके घटकों में अलग करने और यौगिकों का शुद्धिकरण करने के लिए बड़े पैमाने पर प्रयोग की जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण पृथक्करण तकनीकों में से क्रोमैटोग्राफी एक है।

क्रोमैटोग्राफिक तकनीक में, स्थिर चरण नामक चरण पर पदार्थों का मिश्रण लगाया जाता है। स्थिर चरण ठोस या तरल हो सकता है। चलायमान चरण जो शुद्ध विलायक या विलायकों का मिश्रण, या  गैस हो सकता है, को स्थिर चरण पर धीरे धीरे चलने दिया जाता है। इस चलायमान चरण को सचल चरण कहा जाता है। जब स्थिर चरण पर मिश्रण पर सचल चरण ले जाया जाता है, तो मिश्रण के घटक धीरे-धीरे एक-दूसरे से अलग हो जाते हैं।

क्रोमैटोग्राफी में शामिल बुनियादी सिद्धांत के आधार पर , इसे मुख्य रूप से दो भागों में वर्गीकृत किया जाता है।

1. अधिशोषण क्रोमैटोग्राफी

यह अधिशोषक (स्थिर चरण) पर घटकों के अंतरीय अधिशेषण पर आधारित है। इसका मतलब है कि अलग-अलग यौगिक अलग-अलग मात्रा में अधिशोषक पर अधिशोषित होते हैं। अंतरीय अधिशोषण के सिद्धांत पर आधारित निम्नलिखित दो मुख्य प्रकार की क्रोमैटोग्राफिक तकनीकें हैं।

  • कॉलम क्रोमैटोग्राफी
  • पतली परत क्रोमैटोग्राफी

कॉलम क्रोमैटोग्राफी

कॉलम क्रोमैटोग्राफी में, स्थिर चरण या अधिशोषक ठोस होता है और सचल चरण तरल होता है। सिलिका जेल और एल्यूमिना आमतौर पर सबसे अधिक प्रयोग किए जाने वाले स्थिर चरण हैं।

पतली परत क्रोमैटोग्राफी

पतली परत क्रोमैटोग्राफी एक अन्य प्रकार की अधिशेषण क्रोमैटोग्राफी है। इसमें कांच की प्लेट पर लेपित अधिशोषक की पतली परत के ऊपर पदार्थों के मिश्रण का पृथक्करण होता है। मिश्रण के प्रत्येक घटक के सापेक्षिक अधिशोषण को उसके मंदता कारक (Rf) (प्रतिधारण कारक) के रूप में व्यक्त किया जाता है।

प्रतिधारण कारक​

इसे मूल रेखा से विलायक द्वारा तय की गई दूरी तक मूल रेखा से घटक द्वारा चली गई या तय की गई दूरी के रूप में परिभाषित किया जाता है।

   Rf =  मूल रेखा से विलायक द्वारा तय की गई दूरी / मूल रेखा से घटक द्वारा चली गई या तय की गई दूरी

2. विभाजन क्रोमैटोग्राफी

विभाजन क्रोमैटोग्राफी का बुनियादी सिद्धांत स्थिर चरण और सचल चरण के बीच मिश्रण के घटकों का सतत अंतरीय विभाजन है। पेपर क्रोमैटोग्राफी भी एक महत्वपूर्ण विभाजन क्रोमैटोग्राफी है।

पेपर क्रोमैटोग्राफी

पेपर क्रोमैटोग्राफी में, स्थिर चरण क्रोमैटोग्राफी पेपर नामक विशेष गुणवत्ता वाला कागज होता है। सचल चरण विलायक या विलायकों का मिश्रण होता है। मूल रेखा या आधार रेखा नामक मिश्रण का विलयन कागज के तल से लगभग 2 सेमी ऊपर रेखा पर और उसके बाद उपयुक्त विलायक से युक्त  क्रोमैटोग्राफी चैम्बर में निलंबित दिखाई देता है। विलायक केशिका क्रिया द्वारा कागज तक चढ़ता है और धब्बे पर बहता है। यह कागज दो चरणों में घटकों के अलग-अलग विभाजन के अनुसार चयनात्मक रूप से अलग-अलग घटकों को बनाए रखता है। इस प्रकार से विकसित कागज की पट्टी को क्रोमैटोग्राम कहा जाता है। पृथक रंगीन यौगिकों के धब्बे क्रोमैटोग्राम पर प्रारंभिक धब्बे की स्थिति से अलग ऊंचाई पर दिखाई देते हैं। पृथक रंगहीन घटकों के धब्बे या तो पराबैंगनी प्रकाश के नीचे या उपयुक्त स्प्रे अभिकर्मक का प्रयोग करके देखे जा सकते हैं। मूल रेखा से विलायक द्वारा चली गई दूरी को विलायक का अग्रभाग कहा जाता है। मिश्रण के प्रत्येक घटक का सापेक्षिक अधिशोषण उसके मंदता कारक (Rf) (प्रतिधारण कारक) के रूप में व्यक्त किया जाता है।

                             Rf =  मूल रेखा से विलायक द्वारा तय की गई दूरी /मूल रेखा से घटक द्वारा चली गई या तय की गई दूरी

                                 

आरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी  और अवरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी

पेपर क्रोमैटोग्राफी का वह प्रकार जिसमें विलायक ऊपर चढ़ता है को आरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी कहा जाता है। वैकल्पिक रूप से, विलायक कंटेनर में शीर्ष पर ले जाया जा सकता है और नीचे आने दिया जा सकता है। इस स्थिति में इसे अवरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी कहा जाता है। नीचे आरोही पेपर क्रोमैटोग्राफी दिखाया गया है।

 

Cite in Scientific Research:

Nedungadi P., Raman R. & McGregor M. (2013, October). Enhanced STEM learning with Online Labs: Empirical study comparing physical labs, tablets and desktops. In Frontiers in Education Conference, 2013 IEEE (pp. 1585-1590). IEEE.

Cite this Simulator: